Mark
मरकुस
1
1 परमात्मा दे जाकत यीशु मसीह दे सनेया दा मुन्ड । 2 जिया यशायाह नबी ने लिख्या ऐ, “देख्ख, में अपने दूत गी अतेरे अग्गे पेजना हां, जेहडा अतेरे लेई रस्ता तयार करग ।
3 जंगल च इक बलाने आले दी बाज ए सनाई दे रई ऐ कि प्रभु दा रस्ता तयार करो।”
4 यहुन्ना आया, जेहडा जंगल च बपतिस्मा दिंदा, अते पापे दी माफ़ लेई मानबदलने दा बपतिस्मा दा पाशन करदा ऐ । 5 सारे यहूदिया परदेश अते ,यरूशलेम दे रोने आले ओदे कोल आईये, अते अपने पापं गी मानिये यार्दन दे दरयः च बप्तिस्मा लें लेई पे ।
6 यहुन्ना अते ऊंट दे रोएं दे कपड़े पांदा हे अते लाक च चमड़े दा कटिबन्ध पाया करदा हे अते टिडियाँ अते वन मखीर खाया करदा हे । 7 अते ए पाशन करदा हे, “मेरे बाद ओह आने आला ऐ, जेहडा मेरे कन्ने भी बड्डा ताकतआले ऐ अते में इस योग नेईं कि झुकिये ओहदे जूती दा बन्तन खोली सका । 8 में अते तुस गी पानी कन्ने बपतिस्मा दिता ऐ, लेकन ओह तुस गी पवित्र आत्मा दा बपतिस्मा देग्ग । ”
9 उन धयारे च यीशु ने गलील दे नासरत तो आईये, यरदन च यहुन्ना कन्ने बपतिस्मा लेया 10 अते जिसलै ओह पानी च निकलिये उप्पर आया अते उन असमान दी खुलदे होए अते आत्मा गी कबूतर दे रूप च अपने उप्पर उतरदे दिखेया । 11 पी स्वर्ग च ए आवाज आई, “तू मेरा प्रिय जाकत ऐ,अते में अतेरे कन्ने बड़ा खुश हां ।
12 पी आत्मा ने जल्दी उसे जगंल दी ओर पेजेया । 13 जगंल च चाली धयारे तकर शैतन ने ओहदी परिखया लेई; अते ओह वन पशुओं दे कन्ने रेहा, अते स्वर्गदूत ओहदी सेवा करदे रहे ।
14 यहुन्ना दे पकड़वाये जाने दे बाद यीशु ने गलील च आईये परमात्मा दे राज्य दा सनेया पाशन कित्ता । 15 अते आख्या, “बक्त पूरा ओया ऐ, अते परमात्मा दा राज्य निकट आई गेया ऐ; मन फिराओ अते सनेया उप्पर परोसा करो । ”
16 जिसलै ओह गलील सागर दे कनारे- कनारे जा दा हां, अते उन शमौन अते ओहदे परा अनिद्रयास दे सागर च जाल पांदे दिखेया, कीहके ओह मछुबे हे । 17 यीशु ने उ'नेगी आख्या, “मेरे पीछे आओ, अते में तुस गी मनुक्खे दे मछुबे बनागा । 18 ओह तोले जाले गी छडीये ओहदे पीछे ओई ये ।
19 केछ अग्गे बदिये, उने जब्दी दे जाकत याकूब, अते उदा परा यहुन्ना गी, किशतिया ठीक करदे दिखेया । 20 उने तोले उ'नेगी बुलाया अते ओह अपने प्यो जब्दी गी मजदूरें दे कन्ने किश्ती उप्पर छोड़िये ओहदे पीछे ओई ये ।
21 पी ओह कफरनहूम च आये, अते तोले सब्त दे धयारे ओह प्राथनाकार च जाईये सिखया देन लग्गा । 22 अते लोक ओहदे सिखया कन्ने चकित ओई ये; कीहके ओह उ'नेगी शास्त्रियों दे लेखा नेईं लेकन अधिकारी दे लेखा सिखया दे दा हां । 23 उसे बक्त, उन्दे प्राथनाकार च इक मनुक्ख हे, जिदे च इक आशोद आत्मा हे । 24 उन चिल्लाईये आख्या, “हे यीशु नासरी, सानू अतेरे कन्ने के कम्म ? के तू सानू खत्म करन लेई आया हां ? में तुगी जान्दा हां, तू कोन ऐ ? परमात्मा दा पवित्र जन !” 25 यीशु ने उसे डांटिये आख्या, “चुप रह, अते ओहदे बिचा निकली जा । ” 26 पी आशोद आत्मा उसे मरोड़िये, अते मअते शब्द च चिल्लाईये ओहदे बिचा निकली गेई । 27 इदे उप्पर सारे लोक हरान ओई ये आपस च गालबात करदे ओई बोलन लग्गे, “ए केरी गल्ल ऐ ? ए अते कोई नयी सिखया ऐ ! ओह आक दे कन्ने आशोद आत्मा गी भी उक्म दिंदा ऐ, अते ओह ओहदी उक्म मनदी ऐ । ” 28 अते उदा नांऽ तोले गलील दे आसे-पासे दे सारे जगह च फैली गेया ।
29 ओह तोले प्राथनाकार च निकलिये, याकूब अते यहुन्ना दे कन्ने शमौन अते अनिद्रयास दे कार आया । 30 शमौन दी सास बखार अते कन्ने पीड़ित हे, अते उने तोले ओहदे विषय च उसे आख्या । 31 पी उन ओहदे कोल जाईये उदा हथ पकड़िये उसे उठाया । उदा बखार उतरी गेया, अते ओह ओहदी सेवा करन लग्ग पेई । 32 शामी दे बक्त जिसलै सुरज डूबी गेया अते लोक जेके सारे बीमार हे अते उ'नेगी जिन्दे च दुष्टात्मायें समाई दी हे यीशु दे कोल आन लग्गे । 33 अते सारे लोक दरबाजे उप्पर कठे ओई गए । 34 उन मअते गे जेके नाना चाली दी बीमारियों कन्ने दुखी हे, चंगा कित्ता, बड़ी सारी ग़न्धीआत्मा गी कडेया अते ग़न्धीआत्मा गी बोलन नेईं दिता, कीहके ओह उसे पन्शान दी हे ।
35 सबेर दा बक्त जिसलै थोड़ा न्हेरा हे ओह उठिये बाअर निकलिये आया, अते इक जंगल जगह च गेया अते उत्थे प्राथर्ना करन लग्गा । 36 पी शमौन अते ओहदे साथी उसे तुपन लग्गे, 37 जिसलै ओह मिलेया, अते उसे आख्या, “सारे लोक तुगी तुपा दे हे । ” 38 उन उ'नेगी आख्या, “आओ; असे अते कीअते असे पासे दी राज्य बिच जाचे, कि में उदर भी पाशन करा, कीहके में इदे बासअते आया हां । ” 39 आखिर ओह सारे गलील च उन्दे प्राथनाकार च जाईये पाशन करदा अते दुष्टात्मा गी कडदा रेया ।
40 इक कोढ़ी ओहदे कोल आया, ओहदे अग्गे बिनती किती, अते ओहदे समुक घुटने टेकिये उसे आख्या, “जे तू चाहे अते मिगी शुध्द करी सकदा ऐ । ” 41 उन ओहदे उप्पर तरस खाईये अपना हथ बढ़ाया, अते उसे छुईये उसे आख्या, “में चाना हां कि तू शुध्द ओई जाये । ” 42 अते तोले उदा कोढ़ जन्दा रेहा अते ओह शुध्द ओई गेया । 43 पी उन उसे सक्त चतावनी दि उसे तोले भेजी ओड़ेया, 44 अते उन गलाया, “देख्ख, कूसे गी केछ नेईं आख्या, लेकन जाईये अपने आप गी याजक दी दस, अते शुध्द होने दे बारे च मूसा ने जेड़िया उक्म दिती ऐ, उन्दे च पेट चाड़ कि ताकि उन्दे च अतेरी गवाहे होए । ” 45 लेकन ओह बाअर जाईये इस बारे च बड़ा पाशन करन लग्गा कि यीशु पी खुलेआम राज्य च नेईं जाई सकेया, लेकन बाअर जंगली जगह च रेहा, अते चारों पासे दे लोक ओहदे कोल आन्दे रए